राज्य
समाचार ब्यूरो
फरीदाबाद के गांवों में मंडराने लगा खतरा
Total views 24
सिंचाई विभाग के अनुसार हथिनीकुंड बैराज से छोड़े गए पानी का असर बुधवार को दिखाई देगा।

यमुनानगर स्थित हथिनीकुंड बैराज से छोड़े गए पानी के बाद यमुना का जल स्तर बढ़ने से फरीदाबाद और बल्लभगढ़ के कई इलाकों में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। सोमवार को बल्लभगढ़ के शाहपुरा खादर और गांव अरूआ व चांदपुर में यमुना का पानी खेतों तक पहुंच गया है।

प्रशासन ने सरपंचों को और जिले के अधिकारियों को संभावित बाढ़ से निपटने के लिए जरुरी दिशा-निर्देश भी जारी किए हैं। इसे देखते हुए प्रशासन चौकस हो गया है और मुनादी करानी शुरू कर दी है। बाढ़ के खतरे को देखते हुए बल्लभगढ़ के एसडीएम व अन्य प्रशासनिक अधिकारियों ने यमुना तट पर बसे गांवों का जायजा लिया तथा लोगों को यमुना तट पर जाने से मना किया। बल्लभगढ़ में यमुना का जलस्तर बढ़ने से प्रशासन ने खेतों में रहने वाले किसानों को घर बुला लिया है। कई गांवों की आबादी को ऊंचे पर रखने के लिए अस्थायी शिविर बनाने की तैयारी की है।

सिंचाई विभाग के अनुसार हथिनीकुंड बैराज से छोड़े गए पानी का असर बुधवार को दिखाई देगा। सिंचाई विभाग का दावा है कि पिछले 20 वर्षों में ये अब तक सबसे ज्यादा पानी छोड़ा गया है। जिससे फसलों को काफी नुकसान होने की उम्मीद है।

वहीं, उत्तर प्रदेश की तरफ खेतों पर रहने वाले किसानों और गांवों की आबादी को गांव अरुआ, मोठूका, छांयसा और फरीदाबाद के बसंतपुर, लालपुर, ददसिया के सरकारी स्कूलों में ठहराया जाएगा। ग्रामीणों को मंगलवार की शाम को इन अस्थायी शिविरों में बुलाया जाएगा। अभी तक जिले के किसी भी गांव की आबादी में पानी नहीं घुसा है। यमुना किनारे बसे गांवों में हर पल की खबर देने के लिए प्रशासन ने सभी पटवारियों और पंचायतों के सचिवों की ड्यूटी लगाई है। बाढ़ नियंत्रण के लिए जिला प्राकृतिक आपदा प्रबंधन एवं जिला राजस्व अधिकारी और बल्लभगढ़ के एसडीएम कार्यालय में कंट्रोल रूम बनाए गए हैं।

बाढ़ की आशंका के चलते किसान चिंतित हैं। इसे देखते हुए प्रशासन ने भी आवश्यक प्रबंध करने शुरू कर दिए हैं। सभी तहसीलदार व नायब तहसीलदारों को गांव में ही रुकने के आदेश दिए गए हैं। दिन-रात यमुना नदी पर नजर रखी जा रही है। प्रशासनिक अधिकारी सिंचाई विभाग के अधिकारियों के संपर्क में हैं, उनसे पता किया जा रहा है कि यमुना नदी कि कितना पानी बह रहा है।

इन गांवों में बाढ़ का खतरा

यमुना नदी किनारे बसे हुए गांवों में बसंतपुर, चिरसी, कबूलपुर पट्टी, ददसिया, तिलोरी खादर, अमीपुर, मंझावली, लालपुर व किड़ावली में अवैध कॉलोनियां काटी गई थी। बाढ़ की आशंका के चलते अधिकारियों ने बसंतपुर में यमुना नदी की तलहटी में बने मकानों को खाली करने के लिए कहा है।



राष्ट्रीय
17/09/2019
17/09/2019
17/09/2019
17/09/2019
04/09/2019
04/09/2019
04/09/2019
04/09/2019