राष्ट्रीय
समाचार ब्यूरो
कोलकाता में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो में हंगामा, पुलिस ने किया लाठीचार्ज
Total views 10
कोलकाता में अमित शाह का रोड शो हंगामें और झड़प की वजह से रोक दिया गया है।

कोलकाता में मंगलवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान पथराव, आगजनी, लाठीचार्ज की घटना हुई है। अमित शाह जिस वाहन पर सवार थे, उस पर डंडे फेंके गए और भाजपा समर्थकों पर पथराव किया गया। इस दौरान विद्यासागर कॉलेज में लगी ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़ दी गई। इसका आरोप भाजपा पर लगाया है, जबकि भाजपा ने इसके पीछे तृणमूल का हाथ बताया है। हिसा में दोनों पक्षों के कई लोग जख्मी हो गए। दरअसल, शाह के रोड शो को लेकर सुबह से ही खींचतान चल रही थी। पहले धर्मतल्ला में रोड शो के लिए लगाए गए पीएम मोदी व शाह के बैनर-होर्डिंग्स हटा दिए गए। इसे लेकर भी काफी हल्ला हुआ। इसके बाद शाम को शाह का रोड शो शुरू हुआ।

इससे पहले कोलकाता में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का रोड शो शुरू हुआ। उनके रोड शो मे शिरकत करने के लिए बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता और प्रशंसक कोलकाता की सड़कों पर जमा हुए ।

रोड शो के सीयू पहुंचने पर शुरू हुआ हंगामा रोड शो के कॉलेज स्ट्रीट इलाके में स्थित कलकत्ता विश्वविद्यालय (सीयू) के मेन कैंपस के समीप पहुंचते ही हंगामा शुरू हो गया। यहां तृणमूल कांग्रेस छात्र परिषद के सदस्य शाह के रोड शो को लेकर विरोध-प्रदर्शन करने लगे। उन्होंने काले झंडे व पोस्टर लेकर 'अमित शाह गो बैक' और 'चौकीदार चोर है' के नारे लगाए। आरोप है कि रोड शो को रोकने की भी कोशिश की गई। इसके जवाब में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सदस्य भी तृणमूल के खिलाफ नारे लगाने लगे। देखते ही देखते भाजपा एवं तृणमूल समर्थक भिड़ गए। उस समय शाह की गाड़ी कुछ आगे बढ़ गई थी। वहां जमकर ईंट, पत्थर और बोतल फेंकी गईं । पुलिस ने जैसे-तैसे हालात को नियंत्रित किया।

फिर बेकाबू हुए हालात शाह की गाड़ी विधान सरणी स्थित विद्यासागर कॉलेज से थोड़ी आगे निकली तो स्थिति फिर बेकाबू हो गई और संघर्ष शुरू हो गया। आरोप है कि भाजपा समर्थकों ने कॉलेज के पास खड़ी तीन बाइकों को फूंक दिया। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर आगजनी का आरोप लगाया है। वहां स्थित विद्यासागर की मूर्ति तोड़ दी गई। इस संघर्ष में दोनों पक्षों के कई लोग जख्मी हुए हैं। घटना के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी व कोलकाता पुलिस आयुक्त राजेश कुमार विद्यासागर कॉलेज पहुंचे और हालात का जायजा लिया। बाद में ममता बनर्जी की मौजूदगी में पुलिस आयुक्त ने कहा कि मामले में सौ से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया है। विद्यासागर जी की मूर्ति तोड़ने वाले किसी को भी नहीं बख्शा जाएगा।

गंतव्य तक नहीं पहुंच पाए शाह बिगड़े हालात के कारण शाह का रोड शो शिमला स्ट्रीट स्थित स्वामी विवेकानंद के पैतृक आवास नहीं पहुंच पाया। रोड शो को विधान सरणी इलाके में ही समाप्त करना पड़ा। कैलाश विजयवर्गीय ने दिया धरना शाह का रोड शो शाम चार बजे से धर्मतल्ला स्थित शहीद मीनार मैदान से शुरू होने वाला था। इसके लिए पार्टी समर्थक सुबह से ही वहां जुट गए थे। दोपहर करीब एक बजे प्रशासन ने बताया कि शहीद मैदान से शाह के रोड शो की अनुमति नहीं है। उसके बाद लेनिन सरणी एवं वाई चैनल इलाके में लगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व शाह के होर्डिंग्स-बैनर हटा दिए गए। इसके खिलाफ भाजपा महासचिव व बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कुछ देर तक वाई चैनल में धरना दिया। अंत में शाह ने वाई चैनल के निकट से शाम करीब 4.40 बजे रोड शो शुरू किया।  बारुईपुर में शाह की सभा की भी नहीं दी गई थी अनुमति इससे पहले सोमवार को बारुईपुर में शाह की सभा की अनुमति भी आखिरी वक्त में रद कर दी गई थी। उसके बाद प्रशासन ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की जनसभा की अनुमति भी रद कर दी थी।

इससे पहले भी हुए थे हमले पश्चिम बंगाल में छठे चरण के चुनाव के पहले पूर्व मेदिनीपुर के खेजुरी में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष एवं असम के वित्तमंत्री हेमंत विश्र्वशर्मा के काफिले पर हमले किए गए थे। प्रथम छह चरणों के मतदान में बंगाल में जमकर हिसा हुई है। लाख कोशिशों के बावजूद मतदान के दौरान हिसा रोकने में चुनाव आयोग नाकाम रहा है। अमित शाह के रोड शो के दौरान कलकत्ता विश्वविद्यालय व विद्यासागर कॉलेज में हुई घटनाओं की ममता बनर्जी ने उच्च स्तरीय जांच कराने की बात कही है। घटना के बाद रात को कॉलेज पहुंचीं ममता ने कहा कि यह घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि जांच कमेटी में कौन-कौन शामिल होंगे, यह बाद में तय किया जाएगा। प्रतिवाद जुलूस निकालने को भी कहा ममता ने पार्टी समर्थकों से इस घटना के खिलाफ बुधवार को प्रतिवाद जुलूस निकालने को भी कहा। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा ने दूसरे राज्यों से गुंडे बुलाकर इस घटना को अंजाम दिया है। कालेज में तोड़फोड़ और आगजनी की गई। ममता ने कहा कि उन्होंने अपने जीवन में इस तरह का राजनीतिक दंगा पहले कभी नहीं देखा।